• Helpline Number : +91-9166960485 There you Can Find Every Problems Solution.

1. यदि किसी व्यक्ति के पास आपका धन फँसा है और वह देने में समर्थ है परन्तु फिर भी नहीं दे रहा है तो 2 'राजा कौड़ी' यह किसी भी पूजा की दुकान पर मिल जाएगी उस व्यक्ति के घर के सामने डाल दे जिसके पास आपका धन फँसा है इससे उसका मन बदल जाएगा और वह शीघ्र ही आपका धन आपको लौटा देगा । यह उपाय बिलकुल चुपचाप करें ।

2. किसी बुधवार के दिन, ( अगर कृष्ण पक्ष का बुधवार या बुधवार को पड़ने वाली अमावस्या हो तो और भी अच्छा है ) शाम के समय मीठे तेल की पाँच पूड़ियाँ बना कर उसमें सबसे ऊपर की पूड़ी पर रोली से एक स्वास्तिक का चिन्ह बनायें और उसके उपर सरसों का तेल डाल कर गेहूं के आटे का एक दिया रख लें। फिर दिया जलाकर उसपर भी रोली से तिलक करें और पीले अथवा लाल रंग के पुष्प अर्पित करें। इस दौरान लगातार भगवान श्री गणेश से उस व्यक्ति से अपना धन वापस दिलाने की प्रार्थना करते रहें। फिर बाएं हाथ में काली सरसों और काली उड़द के कुछ दाने लेकर निम्न मंत्र का 21 बार जप करते हुए उसे पूड़ी तथा दिए के उपर छोड़ते जाएँ ।

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रौं ह्रैं ह्रूं ह्रः हेराम्बाय नमो नमः। मम धनं प्रतिगृहं कुरु कुरु स्वाहा।

तत्पश्चात उसी रात को समस्त सामग्री को ले जाकर चुपचाप उस व्यक्ति के घर के मुख्य द्वार के सामने कुछ दुरी पर / सड़क के पार किसी ऐसे स्थान पर रख दें जहाँ से उसका मुख्यद्वार या घर नज़र आता हो।

अपना डूबा हुआ धन प्राप्त करने के लिए आप शुक्रवार को कपूर को जला कर उसका काजल बना ले। फिर एक भोजपत्र पर उस व्यक्ति का नाम लिखे जिसके पास आपका धन है। इसके बाद आप उस कागज़ पर 7 बार थपकी देते हुए उस व्यक्ति से अपने धन की वापसी के लिए कहें फिर उस भोजपत्र को अपनी तिजोरी / अलमारी / बक्सा जहाँ पर आप धन रखते है उसके नीचे दबा दें। अगर आप उसको जानते है तो काजल से भोजपत्र पर उसका नाम लिखकर वह कागज अपने पास रखकर उसके पास जाएँ और बिलकुल शान्त होकर उसको किसी भी तरीके से 7 बार थपकी देकर अपना धन वापस करने के लिए कहे और घर आकर उस भोजपत्र को उपरोक्त विधि से दबा दें । धीरे धीरे आपके धन की वापसी होने लागगी।

यदि आपका धन किसी के पास फंस गया है और वह उसे वापस नहीं कर रहा तो आप रोज सुबह नहाने के पश्चात एक ताम्बे के पात्र में जल लेकर उसमें लाल मिर्च के 11 बीज डालकर सूर्यदेव को जल अर्पण करके उनसे अपने पैसे वापसी के लिए प्रार्थना करें।। इसके साथ ही "ओम आदित्याय नमः" की नित्य एक माला का जाप करें।

Copyright 2019, bhvishyasagar.com